बीजेपी नेता राम कदम बोले, ‘महाराष्ट्र सरकार ने रिया की प्रवक्ता की तरह काम किया’


मुंबई |सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती से पूछताछ कर रही है, तो वहीं इस केस में राजनीति जारी है। सुशांत केस में ड्रग्स ऐंगल सामने आने के बाद बीजेपी ने महाराष्ट्र सरकार पर धावा बोला है। महाराष्ट्र बीजेपी नेता राम कदम ने महाराष्ट्र सरकार को रिया चक्रवर्ती का प्रवक्ता बता दिया। साथ ही उन्होंने पूछा कि 65 दिनों तक राज्य सरकार और पुलिस केस में ड्रग्स ऐंगल क्यों नहीं पता लगा पाई।

एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत में बीजेपी नेता राम कदम ने कहा, ‘हमने देखा कि महाराष्ट्र सरकार के पास पूरे 65 दिनों तक सुशांत सिंह केस की जांच थी और 65 दिनों के अंतराल में महाराष्ट्र सरकार ने रिया के प्रवक्ता के रूप में काम किया। रिया और महाराष्ट्र सरकार की साठ-गांठ है। रिया के प्रवक्ता के रूप में महाराष्ट्र सरकार बात कर रही थी।’

‘महाराष्ट्र सरकार कौन से ड्रग माफिया को बचा रही थी’
राम कदम ने आगे कहा, ‘महाराष्ट्र सरकार को कौन से ड्रग माफिया को बचाना था। जब रिया का चैट मौत के दो दिन के अंदर महाराष्ट्र सरकार के पास आ गया तो बचे हुए 64 दिन तक महाराष्ट्र सरकार ने ड्रग एंगल पर क्यों नहीं तफ्तीश की।’

ड्रग कनेक्शन पर बहस के लिए उद्धव को लिखी थी चिट्ठी
राम कदम ने इससे पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर विधानसभा में बॉलीवुड के ड्रग्स कनेक्शन पर बहस कराने की मांग की थी। इसके अलावा राम कदम ने एक के बाद एक ट्वीट कर इस मुद्दे की सही से जांच करवाने की मांग भी की थी।

ड्रग ऐंगल को लेकर एनसीबी ने दर्ज किया केस
बता दें कि सुशांत केस में ड्रग चैट सामने आने के बाद नारकोटिक्‍स ब्‍यूरो (NCB) ने रिया के ख‍िलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर लिया है। नारकोटिक्‍स की टीम गुरुवार को मुंबई आ चुकी है। हाल ही में रिया और उनके सहयोगियों के बीच ड्रग को लेकर कथित चैट मीडिया में वायरल हुई थी।

चैट में हुई ड्रग के लेनदेन की बातचीत
चैट में भारत में बैन ड्रग को खरीदने और इस्तेमाल को लेकर बातचीत का दावा किया गया था। इसके बाद एनसीबी ने ड्रग्स ऐंगल को लेकर रिया सहित बाकी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

ईडी ने सीबीआई को सौंपी थी चैट
बताया गया कि सीबीआई की टीम मंगलवार को ईडी से मिलने पहुंची थी। ईडी ने सीबीआई और नारकोटिक्‍स ब्‍यूरो को रिया के कुछ वॉट्सऐप चैट सौंपे थे जिसमें ड्रग्स के लेनदेन से संबंधित बातचीत थी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top