रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और नितिन गड़करी ने टेढ़ी पुलिया फ्लाईओवर का लोकार्पण और खुर्रम नगर फ्लाईओवर का शिलान्यास किया


देश के टॉप 3 शहरों में जल्द जाना जाएगा लखनऊ : राजनाथ सिंह

लखनऊ | लखनऊ के सांसद/ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन राजमार्ग केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा टेढ़ी पुलिया फ्लाईओवर का लोकार्पण एवं खुर्रम नगर – सेक्टर 25 इन्दिरा नगर फ्लाईओवर का शिलान्यास किया गया। विकास नगर मिनी स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में रक्षा मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि आज का दिन लखनऊ नगर और विशेष रूप से उत्तर एवं पूर्व विधानसभा क्षेत्रवासियों के लिये बहुत हर्ष और उल्लास का दिन है। आज टेढ़ी पुलिया चौराहे पर 1830 मीटर लम्बे 4 लेन चौड़े और 5.5 मीटर ऊंचे फ्लाई ओवर का लोकार्पण हो रहा है। जिसकी निर्माण लागत लगभग 88 करोड़ की है।

इस चौराहे के ट्रैफिक सर्वे में औसत दैनिक ट्रैफिक वाहनों की संख्या 42 हजार तक पायी गयी जो दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है जिसके फलस्वरूप हर समय भारी जाम की स्थिति बनी रहने से गति अत्यन्त धीमी रहती थी।वर्तमान और भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए 4 लेन के इस पलाईओवर के निर्माण की स्वीकृति वर्ष 2017 में श्री गडकरी जी, मंत्री राजमार्ग एवं सड़क परिवहन द्वारा प्रदान की गयी थी जिसके लिये धनराशि राज्य को उपलब्ध करायी गयी सेन्ट्रल रोड फण्ड से मुख्यमंत्री के अनुमोदन से लोक निर्माण मंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा निर्गत की गयी थी जून 2019 को कार्य प्रारम्भ किया गया और कोरोना काल के होते हुए भी नियम समय में यह कार्य पूरा किया गया।इस फ्लाई ओवर की विशेषता है कि आधुनिक तकनीकि पर सिंगल पिलर पर यह “सेन्ट्रल बर्ज” पर खड़ा हुआ है जिससे भूतल पर मार्ग की अधिकतम चौड़ाई आवागमन के लिये अभी भी उपलब्ध है। पुल की ऊंचाई भी 5.5 मीटर के असाधारण स्तर पर रखी गयी है जिससे भविष्य में भी नीचे डबल डेकर वाहन भी आ जा सकें।इस फ्लाई ओवर के बन जाने से अब बक्शी का तालाब की ओर से मुंशी पुलिया होते हुए अयोध्या मार्ग की ओर जाने वाले और कुकरैल फ्लाई ओवर से होकर कालीदास मार्ग चौराहे की ओर जाने वाले वाहनों का समय अत्यधिक घट जायेगा और इस चौराहे पर कभी भी जाम की स्थिति न रहने से वायु प्रदूषण में भारी कमी आयेगी।

इस अभूतपूर्व कार्य की स्वीकृति के लिये मैं नगर की जनता एवं क्षेत्रीय निवासियों की ओर से श्री गडकरी जी. श्री योगी आदित्यनाथ जी और श्री केशव प्रसाद मौर्य जी का हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ।मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि अभी कुछ माह पूर्व लखनऊ के लधानी गुप द्वारा साउथ कोरिया की एडिसन मोटर्स नाम की इलेक्ट्रिकल VECE निर्माता कम्पनी के साथ मेमोरेंडम हस्ताक्षरित किया गया है इससे लखनऊ में यह इकाई स्थापित की जायेगी।
राजनाथ सिंह ने गडकरी जी से कुछ अन्य स्थानों पर भी फ्लाईओवर निर्माण के लिये अनुरोध किया जिससे यहां के भारी जाम की स्थिति से निजात पाया जा सके, इंजीनियरिंग कालेज और टेढ़ी पुलिया चौराहे के बीच में इंजीनियरिग कालेज चौराहे पर 60 मीटर लंबाई का फ्लाईओवर , खुर्रम नगर से इंदिरा नगर सेक्टर- 25 तक जो पलाईओवर का शिलान्यास हुआ है उससे कुकरेल 6 लेन फ्लाईओवर को जोडने के लिये कल्वर लीफ बनाने , मुंशी पुलिया चौराहे पर जाम की समस्या समाप्त करने हेतु फ्लाईओवर और ऊपरगामी मार्ग से पालीटेक्निक फ्लाईओवर को जोडने की , राष्ट्रीय राजमार्ग 24 ए और राष्ट्रीय राजार्म सं० [27] के जंक्शन पर स्थित पॉलिटेक्निक फ्लाईओवर को इंदिरा नगर की ओर उपरिगामी मार्ग , राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 27 स्थित मटियारी फ्लाईओवर को उपरिगामी मार्ग द्वारा शहीद पथ से जोड़ने , शारदा नहर के दोनों और निर्मित 6 लेन मार्ग जो आउटर रिंग रोड का हिस्सा है, को उपरिगामी मार्ग के माध्यम से गोसाईगंज- मोहनलालगंज-बनी जाने वाले स्टेट हाईवे संख्या 136 से जोड़ने,लखनऊ- हरदोई राष्ट्रीय राजमार्ग सं0 731 और अवध हास्पिटल से आईआईएम तिराहा जाने वाले मार्ग के इन्टर सेक्शन के ऊपर एक फ्लाईओवर तथा, मेरा मा0 मुख्यमंत्री जी से भी अनुरोध है कि समता मूलक चौराहे की ज्यामेटरी् और भारी वाहन संख्या देखते हुए एक फ्लाईओवर. निर्मित करने की स्वीकृति राज्य सरकार द्वारा,
कानपुर रोड से बारा विरवा चौराहे से दुबग्गा की ओर मुड़ने वाले मार्ग पर निरन्तर जाम से मुक्ति हेतु एक फ्लाईओवर की स्वीकृति तथा
श्रद्धालुओं के आवागमन को सुगम बनाने के लिये अयोध्या में चौरासी कोसीय परिक्रमा मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किया जाय और आवश्यक नवीनीकरण के कार्य कराये जायें।
उक्त कार्यों की तुरंत नितिन गडकरी ने तथा मुख्यमंत्री ने सहमति प्रदान की।
राजनाथ सिंह ने कहा कि श्री गडकरी जी द्वारा खुर्रम नगर चौराहे से लेकर इन्दिरा नगर सेक्टर 25 चौराहे तक 4 लेन लागत 180 करोड़ के फ्लाईओवर निर्माण को भी स्वीकृति प्रदान कर दी गयी है जिसका आज शिलान्यास सम्पन्न हो रहा है इसके बन जाने से लम्बी दूरी वाला ट्रैफिक भी बहुत कम समय में निकल जायेगा इस सम्बन्ध में मैं अनुरोध करना चाहता हूं कि 5 कि.मी. लम्बे कुकरैल फ्लाईओवर से तेज गति से आने वाला ट्रैफिक खुर्रम नगर चौराहे पर जाम में फस जाता है इससे मुक्ति हेतु खुर्रमनगर फ्लाईओवर से 2 क्लवर इण्टर चेंज लीफ कुकरैल फ्लाईओवर पर जोड़ दी जायें तो भविष्य की इस सेन्ट्रल ट्रैफिक आर्ट्री पर अनुमानित 01 लाख प्रतिदिन से अधिक वाहनों के आवागमन के समय की बचत और जाम तथा प्रदूषण से मुक्ति प्राप्त हो सकेगी। इसके साथ ही क्षेत्र के निवासियों को यह भी बताते हुये मुझे खुशी हो रही है कि श्री गडकरी जी द्वारा मड़ियांव चौराहे से आईआईएम मोड़ तक लगने वाले भीषण जाम। से मुक्ति हेतु लगभग 1970 मीटर लम्बे फ्लाईओवर की भी स्वीकृति प्रदान कर दी गयी है जिससे जाम मुक्ति होगी। मड़ियांव से टेढ़ी पुलिया चौराहे के बीच में इंजीनियरिंग कालेज चौराहा भी भीषण जाम का केन्द्र है क्योंकि इससे होकर महानगर- अलीगंज और जानकीपुरम बड़े रिहायशी क्षेत्रों के लोगों का आना जाना है श्री गडकरी से मेरा अनुरोध है कि इंजीनियरिंग कालेज चौराहे पर यदि 70 मीटर लम्बा एक फ्लाईओवर स्वीकृत कर दिया जाय तो फिर सम्पूर्ण विशाल क्षेत्र में कहीं कोई जाम की स्थिति नहीं रहेगी। इस प्रकार एक योजनाबद्ध तरीके से आईआईएम मोड़ से मड़ियांव होते हुये टेढ़ी पुलिया फ्लाईओवर फिर खुर्रम नगर फ्लाईओवर और कुकरैल फ्लाईओवर हात हुए तेज गति से वाहन गुजर सकेंगे। मैं यह पुनः दोहराना चाहता हूं कि किसी भी क्षेत्र की आर्थिक उन्नति उतनी ही तेज गति से होती है जिस तेजी एवं सुविधा से वहां आवागमन होता है और उसी के फलस्वरूप बड़े पैमाने पर रोजगार सृजन होता है और निवासियों की सुख और समृद्धि बढ़ती है।
लखनऊ नगर के अन्दर क्षेत्र से होकर जम्मू-पंजाब से आकर वाराणसी, बिहार, बंगाल जाने वाला और असम से गुजरात (पूरब पश्चिम कॉरिडोर) जाने वाला भारी वाहन ट्रैफिक निरन्तर गुजरता था जिससे अत्यधिक जाम और प्रदूषण की स्थिति बनी रहती थी। इसके अलावा शहर में पंजीकृत वाहनों की संख्या जो वर्ष 2000 में 50 हजार के लगभग थी वह एक लाख प्रतिवर्ष की दर से बढ़ रही थी जो वर्तमान में 26 लाख के करीब पहुंच गयी है, के कारण अत्यधिक जांबा प्रदूषण की स्थिति बनी रहती है
इसी दृष्टि से वर्ष 2014-15 में गडकरी जी के सहयोग से लखनऊ के चारों ओर 5.400 करोड़ की लागत से 104 किलोमीटर 8 लेन वाली आउटर रिंग रोड का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया गया था जिसमें सुल्तानपुर रोड़ से अयोध्या मार्ग तक लगभग 300 करोड रुपये की लागत से 12 कि.मी. 6 लेन मार्ग राज्य सरकार के अंशदान के रूप में स्वीकृत हुआ था। जिसका निर्माण पूर्ण हो चुका है। पंचायत चुनाव की आचार संहिता लागू हो जाने के कारण इसका लोकार्पण नहीं हो सका है। आचार संहिता समाप्त हो जाने के तुरंत बाद इसका लोकार्पण कर दिया जायेगा जिससे शहीद पथ और पॉलिटेक्निक चौराहे से इन्दिरा नहर चौराहे तक आन्तरिक जाम से मुक्ति मिल सकेगी ।
अयोध्या मार्ग से कुर्सी रोड तक 15 कि.मी. रिंग रोड का हिस्सा मार्च 2019 में ही पूर्ण होकर लोकार्पण किया जा चुका है। रिंग रोड निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है और दिसम्बर 2021 तक इसके पूर्ण होने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।आन्तरिक क्षेत्रों को जाम एवं प्रदूषण मुक्त करने के उद्देश्य से लगभग 300 करोड़ रुपये लागत से 5 कि.मी. लम्बा एक्सप्रेस फ्लाईओवर भी मार्च 2019 में लोकार्पण करके आवागमन प्रारम्भ हो चुका है जिसकी तेज गति से समय और प्रदूषण दोनों में बड़ी कमी आई है।अभी कुछ माह पूर्व नाका और बांसमंण्डी जैसे 2 व्यस्ततम चौराहों पर 133 करोड़ की लागत से 1528 मी० लम्बे फ्लाईओवर का लोकार्पण किया जा चुका है । है। जिस पर वाहनों की तेज गति और सुविधा से यात्रा समय और प्रदूषण में बहुत कमी आयी है।इसी के साथ ही हैदरगंज तिराहे से राजाजीपुरम के लिये लगभग 65 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 1 कि.मी. लम्बे फ्लाईओवर से बड़ी सुविधा प्राप्त हुई है। बड़े इमामबाड़े से लेकर हैदरगंज तिराहे तक 135 करोड़ की लागत से लगभग 2.5 कि.मी. लम्बे फ्लाईओवर का निर्माण लगभग 90 प्रतिशत पूरा हो चुका है। इसके चल जाने के बाद इमामबाड़ा हेरिटेज एरिया से रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट पहुंचने में लगने वाला समय बहुत घट जायेगा।
इसी कड़ी में रायबरेली रोड से वृन्दावन योजना, शहीद पथ से एयरपोर्ट और बगला बाजार में रेलवे क्रासिंग के ऊपर भी फ्लाईओवरों का निर्माण प्रगति पर है जससे वाहन ट्रैफिक को बहुत सुविधा प्राप्त हो जायेगी।लखनऊ के चतुर्दिक विकास के क्रम में ही 127 कि.मी. लखनऊ सुलतानपुर राजमार्ग के 4 लेन चौड़ीकरण का कार्य लागत लगभग 3300 करोड़ मार्च 2019 में पूर्ण हो चुका है।रेलवे टर्मिनस गोमती नगर अनुमानित लागत 1800 करोड़ रुपये का निर्माण कार्य प्रगति पर है। रेल लाइन के दोहरी करण और 2 अतिरिक्त प्लेटफार्म आदिका कार्य पूर्ण हो चुका है।33 करोड की लागत से आलमनगर सेटेलाइट रेल स्टेशन में फुट ओवर ब्रिज, यार्ड तथा स्टेशन बिल्डिंग का निर्माण कार्य प्रगति पर है।मानक नगर रेल स्टेशन का विकास, ट्रांसपोर्ट नगर, नये यात्री रेल स्टेशन का विकास और आलमनगर से उत्तरठिया रेल लाइन की डबलिंग का कार्य लागत 360 करोड़ में काफी प्रगति हो चुकी है।एयरपोर्ट में 1300 करोड़ की लागत से 2 नये टर्मिनल का निर्माण प्रगति पर है और कोरोना काल में बाधित होने के बाद भी 1 टर्मिनल जायेगा। शीघ्र ही पूर्ण हो
334 करोड़ की लागत से हैदर कैनाल एस.टी.पी. का निर्माण कार्य चल रहा है। लखनऊ से हरदोई होते हुए शाहजहांपुर तक रोड का 4 लेन चौड़ीकरण और पलिया (लखीमपुर) तक लगभग 4000 करोड़ की लागत से 4 लेन चौड़ीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है। यह मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 731 घोषित किया गया है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top