राज्य सरकार द्वारा अब तक पौने चार लाख से अधिक युवाओं को सरकारी सेवाओं में निष्पक्ष एवं पारदर्शी चयन प्रक्रिया के माध्यम से नियुक्ति प्रदान की गयी—- मुख्यमंत्री


मिशन रोजगार के अन्तर्गत राजकीय माध्यमिक विद्यालयांे के 436 प्रवक्ताओं एवं सहायक अध्यापकों
का आॅनलाइन पदस्थापन एवं नियुक्ति पत्र वितरण समारोह

लखनऊ |   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार गांव, गरीब, किसान, मजदूर, महिलाओं, नौजवानों आदि के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। वर्तमान राज्य सरकार ने अब तक के अपने 03 वर्ष 10 माह के कार्यकाल में बिना भेदभाव के शासन की योजनाओं से प्रदेशवासियों को लाभान्वित करने का प्रयास किया है। प्रदेश सरकार द्वारा सरकारी नौकरियों में चयन हेतु योग्यता और प्रतिभा को अवसर प्रदान किया गया। आरक्षण के नियमों का पालन करते हुए समाज के गरीब और वंचित वर्गाें को आगे बढ़ाने का कार्य किया गया।
          मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर मिशन रोजगार के अन्तर्गत राजकीय माध्यमिक विद्यालयांे के नव चयनित 436 प्रवक्ताओं तथा सहायक अध्यापकों के आॅनलाइन पदस्थापन एवं नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। प्रवक्ताओं एवं सहायक अध्यापकों का चयन उ0प्र0 लोक सेवा आयोग द्वारा किया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने 06 प्रवक्ता व सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया। उन्होंने नियुक्ति पत्र डाउनलोड करने हेतु माध्यमिक शिक्षा विभाग की वेबसाइट का शुभारम्भ भी किया।
             कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने जनपद चित्रकूट, महराजगंज, मैनपुरी, वाराणसी, अयोध्या के राजकीय माध्यमिक विद्यालयों हेतु चयनित अभ्यर्थियों से वर्चुअल माध्यम से संवाद किया। उन्होंने सभी चयनित अभ्यर्थियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सभी नवनियुक्त शिक्षक अपने दायित्वों का पूरी प्रतिबद्धता के साथ पालन करें।
         
            मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार द्वारा बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। अब तक पौने चार लाख से अधिक युवाओं को सरकारी सेवाओं में निष्पक्ष एवं पारदर्शी चयन प्रक्रिया के माध्यम से नियुक्ति प्रदान की गयी है। बेसिक शिक्षा विभाग एवं पुलिस में बड़ी संख्या में भर्तियां की गयी हैं। पुलिस के 01 लाख 37 हजार जवानों की भर्ती की गयी है। आज का कार्यक्रम भी पौने चार साल से अनवरत चल रही प्रक्रिया की नवीनतम कड़ी है।
          मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके मार्गदर्शन में 34 वर्षाें के पश्चात ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020’ घोषित हुई है। यह नीति भारत को दुनिया में ज्ञान के केन्द्र के रूप में स्थापित करने का माध्यम बन सकती है। नीति के क्रियान्वयन के लिए अध्यापकों एवं शिक्षण संस्थाओं से आगे आने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि अध्यापकों को नयी शिक्षा नीति का अध्ययन कर उसे अपने विद्यालयों में लागू करने का प्रयास करना चाहिए।
       
        कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सभी विभागों में निष्पक्ष एवं पारदर्शी प्रक्रिया के माध्यम से अभ्यर्थियों का चयन किया गया है। माध्यमिक शिक्षा विभाग में साक्षात्कार को समाप्त कर लिखित परीक्षा के आधार पर चयन किया गया है। माध्यमिक शिक्षा विभाग में निरन्तर पदस्थापन का कार्य हो रहा है। प्रथम चरण में राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में 3,317 प्रवक्ताओं एवं सहायक अध्यापकों को आॅनलाइन नियुक्ति पत्र/पदस्थापन आदेश निर्गत किये गये थे। द्वितीय चरण में आज 436 प्रवक्ताओं/सहायक अध्यापकों की नियुक्ति/पदस्थापन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पदस्थापन का कार्य अभ्यर्थियों की अभिरुचि के अनुसार बिना मानवीय हस्तक्षेप के किया गया है।
                 अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा श्रीमती आराधना शुक्ला ने कहा कि पहली बार माध्यमिक शिक्षा विभाग में चयनित अभ्यर्थियों का ओरिएण्टेशन तथा ट्रेनिंग का कार्यक्रम रखा गया है।
कार्यक्रम में विभिन्न जनपदों से मंत्रिगण, सांसद, विधायक तथा चयनित अभ्यर्थी वर्चुअल माध्यम से सम्मिलित हुए।
इस अवसर पर माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती गुलाब देवी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना श्री संजय प्रसाद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top