सिडबी एवं सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के सहयोग से राज्य में 35 जिला उद्योग केंद्रों में एंटरप्राइज कनेक्ट डेस्क लॉन्च


प्रथम चरण में 35 जिला उद्योग केन्द्रों  पर तैनात किये गये यंग प्रोफेशनल

डा0 नवनीत सहगल ने यंग प्रोफेशनल के लिए आयोजित एक दिवसीय
 प्रशिक्षण कार्यशाला का किया शुभारंभ

शीघ्र ही यह सुविधा शेष समस्त 40 जनपदों में भी उपलब्ध कराई जायेगी

lucknow | भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के सहयोग से उत्तर प्रदेश राज्य में 35 जिला उद्योग केंद्रों (डीआईसी) में एंटरप्राइज कनेक्ट डेस्क (ईसीडी) लॉन्च किया गया। स्थानीय स्तर पर सरकार की योजनाएं उद्यमियों तक पहुंचाने एवं नये उद्यमी बनाने के लिए सरकार प्रत्येक जिला उद्योग केन्द्र में पेशेवर युवाओं को तैनात किया जायेाग। निर्यात प्रोत्साहन भवन में इनके लिए आज एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ अपर मुख्य सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डा0 नवनीत सहगल ने किया।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने का एक अभियान चला रही है। इसी अभियान के तहत सिडबी और उत्तर प्रदेश के मध्य एक समझौता किया गया है। प्रथम चरण में सिडबी 35 जनपदों में यंग प्रोफेशनल उपलब्ध करा रही है। इनके लिए जिला उद्योग केन्द्र में इण्टरप्राइज कनेक्ट डेस्क खोली गई है। ये वहां बैठेंगे और युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने तथा उद्यम लगाने के लिए हर प्रकार की सहायता करेंगे। साथ ही बैंक से समन्वय स्थापित कर उनको ऋण दिलाने में भी मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही यह सुविधा शेष समस्त 40 जनपदों में भी उपलब्ध करायी जायेगी।

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि इन प्रोफेशनल्स की तैनाती से सरकार और उद्यमियों के बीच का गैप कम होगा। उद्यमियों को आसानी से सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ भी मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार से जोड़ना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। युवा स्वयं का व्यवसाय शुरू करें, इसके लिए उन्हें पूर्ण सुविधा दी जायेगी। उन्होंने नियुक्त किये सभी प्रोफेशनल से कहा कि उनको सहायता वाला दृष्टिकोण रखना होगा और मिशन की तरह कार्य करना होगा। समय-समय पर सभी के कार्याे का आंकलन भी किया जायेगा।

कार्यक्रम में आयुक्त एवं निदेशक उद्योग श्री मनीष चौहान, श्री मनीष सिन्हा, महाप्रबंधक और क्षेत्रीय प्रमुख, सिडबी, लखनऊ तथा पी प्रवीण कुमार, डीजीएम, सिडबी उपस्थित थे। 


Scroll To Top
Translate »