बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे परियोजना के कार्यो की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दे—अवनीश कुमार अवस्थी




यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्यों की समीक्षा की, अब तक लगभग 37 प्रतिशत भौतिक कार्य सम्पन्न हो चुका है, युद्व स्तर पर हो रहा है बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य, पैकेज 01 और 02 में कार्य और तेजी से करने के निर्देश दिए


                                                      

lucknow | यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी द्वारा आज बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य की समीक्षा बैठक की गयी। इस बैठक में निर्माण कम्पनियों के अधिकारियों के अलावा यूपीडा के सभी अधिकारी मौजूद थे।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी य द्वारा परियोजना के स्ट्रक्चर्स की प्रगति तीव्र गति से बढ़ाने के लिये मशीनरी और टेक्नीकल स्टाफ पर्याप्त संख्या में बढाने हेतु निर्देशित किया गया। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे परियोजना के कार्यो की गुणवता पर विशेष ध्यान देने हेतु श्री अवस्थी द्वारा सख्त निर्देश दिये कि कार्यों की गुणवत्ता पर किसी भी कीमत पर समझौता न किया जाए।

श्री अवस्थी ने थर्ड पार्टी आॅडिटर द्वारा इंगित की गई कमियों का निराकरण करने के कड़े निर्देश दिए। अब तक लगभग 37 प्रतिशत भौतिक कार्य सम्पन्न हो चुका है, गौरतलब है कि बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य युद्व स्तर पर हो रहा है। इसके साथ ही उन्होंने पैकेज 01 और 02 में कार्य और तेजी से करने के निर्देश दिए। परियोजना में केन नदी पर बन रहे पुल और 04 आर0ओ0बी0 पर कार्य करने हेतु आवश्यक मशीनरी डिप्लाॅए करने के आदेश देते हुए एक्सप्रेसवे की अवशेष भूमि अधिग्रहण का कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए, जिससे कार्य में विलम्ब न हो, श्री अवस्थी द्वारा निर्देशित करते हुए कहा गया कि परियोजना के अन्तर्गत आने वाली पावर ग्रिड लाइनों को हर हालत में मार्च तक हटाया जाए और अथाॅरिटी इंजीनियर एवं पी0आई0यू0 को गुणवत्ता की जांच लगातार करने को कहा, ताकि एक्सप्रेसवे का निर्माण उच्च गुणवत्ता के साथ कराया जा सके।

इस बैठक में एक्सप्रेसवे के निर्माण में विभिन्न ई0पी0सी0 काॅन्टैक्टर द्वारा रोड साइन बोर्ड एवं रोड मार्किंग में एकरुपता एवं एक्सप्रेसवे यूजर फ्रेन्डली बनाये जाने हेतु मेसर्स आई0सी0टी0 के प्रतिनिधि द्वारा प्रस्तुतीकरण भी दिया गया।

बैठक यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अवस्थी ने निर्देश दिए कि रोड मार्किंग एवं रोड साइनेज का कार्य अनुबंध के प्रावधानों के अनुसार आई0आर0सी0 (इण्डियन रोड कांग्रेस) की विशिष्टीयों के अनुसार किया जाए एवं इस बात का ध्यान रखा जाए कि एक्सप्रेसवे का प्रयोग करने वाले यात्रियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो ताकि दुर्घटना की संभावना कम से कम हो।
उल्लेखनीय है कि बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य इस दिनों काफी तेजी से चल रहा है और अब तक लगभग 37 प्रतिशत निर्माण कार्य सम्पन्न किया जा चुका है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे में अब तक क्लीयरिंग एण्ड ग्रबिंग का कार्य 92.25 प्रतिशत और मिट्टी का कार्य 76.86 प्रतिशत से अधिक पूर्ण कर लिया गया है। कुल 819 में से 411 स्ट्रक्चर्स का कार्य भी पूरा किया जा चुका है। श्री अवस्थी ने यह भी बताया कि जुलाई 2021 में 35 प्रतिशत का द्वितीय माइल स्टोन पूरा करने का लक्ष्य है जबकि 5 महीने पूर्व ही यानि 15 फरवरी को ही ये लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।
एक्सप्रेसवे पर 04 रेलवे ओवर ब्रिज, 14 दीर्घ सेतु, 06 टोल प्लाजा, 07 रैम्प प्लाजा, 268 लघु सेतु, 18 फ्लाई ओवर तथा 214 अण्डरपास का निर्माण कराया जायेगा।

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे 04 लेन चौड़ा (6 लेन में विस्तारणीय) तथा संरचनाएं 06 लेन चैड़ाई की बनायी जायेंगी। एक्सप्रेसवे के एक ओर 3.75 मी0 चैड़ाई की सर्विस रोड स्टैगर्ड रूप में बनाई जायेगी जिससे परियोजना के आस-पास के गांव के निवासियों को एक्सप्रेसवे पर सुगम आवागमन की सुविधा उपलब्ध हो सके।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top
Translate »