मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की कोविड-19 पर केन्द्रित ई-पुस्तक का वर्चुअल माध्यम से विमोचन किया


कोविड से लड़ने में यह ई-पुस्तक लोगों के लिएअत्यन्त उपयोगी साबित होगी: मुख्यमंत्री

लखनऊ | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां लोक भवन में उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की कोविड-19 पर केन्द्रित ई-पुस्तक का वर्चुअल माध्यम से विमोचन किया। उन्होंने कहा कि कोविड से लड़ने में यह ई-पुस्तक लोगों के लिए अत्यन्त उपयोगी साबित होगी। इस ई-पुस्तक के माध्यम से एक बड़े तबके को जागरूक करने में मदद मिलेगी। 

मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष तथा मा0 उच्च न्यायालय इलाहाबाद के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री संजय यादव एवं प्राधिकरण के सदस्य सचिव श्री अशोक कुमार का इस सदी की सबसे बड़ी महामारी के बारे में ई-पुस्तक के माध्यम से जागरूकता पैदा करने के लिए आभार व्यक्त किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ई-पुस्तक तथ्यात्मक व वैज्ञानिक जानकारी पर आधारित होने के कारण कोरोना के प्रति भ्रान्तियों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान देगी। यह ई-पुस्तक आज के समय के अनुरूप सभी तथ्यों को ध्यान में रखकर तैयार की गयी है। उन्होंने कहा कि इस ई-पुस्तक को पब्लिक पोर्टल पर उपलब्ध कराया जाए, जिससे माध्यमिक, उच्च व प्राविधिक शिक्षण संस्थान ऑनलाइन क्लासेज के माध्यम से बच्चों को यह ई-पुस्तक पढ़ने के लिए जरूर कहें। कोविड की दूसरी लहर को नियंत्रित करने में हमें सफलता मिली है। प्रदेश के 64 जिलों में आंशिक कोरोना कफ्र्यू में छूट दी गयी है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में देश व प्रदेश में कोरोना के खिलाफ एक रणनीतिक लड़ाई लड़ी जा रही है। जब प्रदेश में पहला कोविड मरीज मिला था, तब प्रदेश की टेस्ट क्षमता शून्य थी, वहीं आज यह क्षमता 3.5 लाख से 04 लाख कोरोना टेस्ट प्रतिदिन की है। भारत की तुलना में अमेरिका, यू0के0, जर्मनी तथा फ्रांस जैसे विकसित देशों में हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर काफी मजबूत है, इसके बावजूद वहां कोविड से मृत्यु दर काफी अधिक रही है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोविड केयर फण्ड बनाया, जिसमें सरकार के मंत्रियों, विधायकों, सांसदों व समाज के विभिन्न लोगों ने सहयोग किया। इससे लगभग 400 करोड़ रुपये मिले। इसका सदुपयोग नई टेस्टिंग लैब स्थापित करने में किया गया। आज प्रदेश में 80,000 आई0सी0यू0 और आइसोलेशन बेड स्थापित किये गये हैं। उत्तर प्रदेश, देश का पहला राज्य होगा, जिसने 5 करोड़ कोरोना टेस्ट किये हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर की सम्भावना के मद्देनजर अभी से व्यापक तैयारी की जा रही है। इसके अन्तर्गत व्यापक स्तर पर स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का काम किया जा रहा है। सभी जनपदों में पीकू व नीकू वाॅर्ड बनाये जा रहे हैं। 12 वर्ष से कम आयु के अभिभावकों को वैक्सीनेट करने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव न्याय श्री प्रमोद कुमार श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव संसदीय कार्य श्री जे0पी0 सिंह-II, सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top