पहली बार एलडीए में ‘सिंगल टेबल क्लीयरेंस डे’ का आयोजन, 5 घंटे में रिकाॅर्ड 357 फाइलों का हुआ निस्तारण


लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी के समक्ष लंबित फाइलों के साथ मसऊद हाॅल में एकत्रित हुए सभी अनुभागों के अधिकारी व कर्मचारी

दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक चली कार्रवाई के दौरान रिकाॅर्ड फाइलों का हुआ निस्तारण, अफसर-कर्मियों ने मीटिंग हाॅल में ही किया लंच

एक ही पटल पर समस्त अनुभागों के अधिकारियों की मौजूदगी से हाथों-हाथ फाइलों पर हुआ निर्णय, लंबे समय से फंसे प्रकरणों का भी हुआ निस्तारण

लखनऊ | लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी के निर्देश पर शनिवार को प्राधिकरण में ‘सिंगल टेबल क्लीयरेंस डे’ का आयोजन किया गया। इस दौरान समस्त अनुभागों के अधिकारी व कर्मचारी लंबित फाइलों के साथ मसऊद हाॅल में उपाध्यक्ष के समक्ष उपस्थित हुए। उपाध्यक्ष की निगरानी में दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक चली कार्रवाई के दौरान रिकाॅर्ड 357 फाइलों का निस्तारण किया गया।

 अपर सचिव ज्ञानेन्द्र वर्मा ने बताया कि पूर्व में उपाध्यक्ष द्वारा विभिन्न अनुभागों का औचक निरीक्षण किया गया था, जिसमें कई पटलों पर फाइलें लंबित पायी गयी थीं। इसके अतिरिक्त जन सम्पर्क के दौरान प्रायः कुछ लोगों द्वारा शिकायत की जा रही थी कि उनके कार्य में अनावश्यक रूप से विलम्ब हो रहा है, जिसके कारण उन्हें बार-बार प्राधिकरण के चक्कर लगाने पड़ते हैं। इस तरह की समस्या का समाधान करने के लिए उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने सप्ताह के प्रत्येक शनिवार को प्राधिकरण में ‘सिंगल टेबल क्लीयरेंस डे’ आयोजित करने के आदेश दिये थे। 

 इसके अनुपालन में आज दिनांक-20.05.2023 को प्राधिकरण भवन के मसऊद हाॅल में प्रथम बार ‘सिंगल टेबल क्लीयरेंस डे’ का आयोजन किया गया। इस दौरान सभी विशेष कार्याधिकारी, उप सचिव, अनुभाग अधिकारी, प्रवर वर्ग सहायक, अवर वर्ग सहायक व अभियंता गण अपने अनुभाग की लंबित फाइलों के साथ दोपहर 12 बजे मीटिंग हाॅल में उपस्थित हुए। इस मौके पर उपाध्यक्ष ने स्वयं लंबित फाइलों की समीक्षा की और कई दिनों से लंबित प्रकरणों पर बारी-बारी से अधिकारियों व कर्मचारियों से जवाब-तलब किया। कई प्रकरणों में उपाध्यक्ष ने स्वयं आवेदनकर्ता से फोन पर बात करके मामले की जानकारी हासिल की और निस्तारण कराया। 

हाथों-हाथ हुई फाइलें
अपर सचिव ने बताया कि एक ही पटल पर सभी अनुभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों के उपस्थित होने से बेहतर सामंजस्य देखने को मिला। इसका नतीजा यह रहा कि जो फाइलें अलग-अलग अनुभागों में कई दिनों तक घूमती रहती थीं, उन पर तुरंत निर्णय लेते हुए प्रकरण का निस्तारण किया जा सका। कार्य की व्यस्तता के चलते अफसरों व कर्मचारियों ने मीटिंग हाॅल में ही लंच किया और पुनः कार्य में जुट गये।

इन प्रकरणों का हुआ निस्तारण
उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि ‘सिंगल टेबल क्लीयरेंस डे’ पर प्रस्तुत की गयी सभी लंबित फाइलों पर शत प्रतिशत कार्यवाही करते हुए 357 फाइलों का निस्तारण किया गया। इसके अंतर्गत रजिस्ट्री के 72 आवेदनों, म्यूटेशन के 53, प्लानिंग के 32, अभियंत्रण के 121, शमन मानचित्र के 12, फ्री-होल्ड के 24, गणना के 28 व नजूल एवं ट्रस्ट की 15 पत्रावलियों का निस्तारण किया गया।


Scroll To Top
Translate »