‘मिशन शक्ति अभियान’ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करेगा और महिलाओं के सशक्तिकरण से पूरे समाज व देश में समृद्धि आएगी—मुख्यमंत्री योगी


मुख्यमंत्री ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट उपलब्धियां और सफलताओं को हासिल करने वाली 10 महिलाओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया

लखनऊ | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि महिला सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन से महिला सशक्तिकरण होगा, इसके लिए जागरूकता आवश्यक है। इसी क्रम में राज्य सरकार द्वारा ‘मिशन शक्ति अभियान’ का संचालन किया जा रहा है, जिसके सकारात्मक परिणाम दिखायी दे रहे हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ‘मिशन शक्ति अभियान’ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करेगा और महिलाओं के सशक्तिकरण से पूरे समाज व देश में समृद्धि आएगी।
मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर मिशन शक्ति महासंवाद कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट उपलब्धियां और सफलताओं को हासिल करने वाली 10 महिलाओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद भी किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में अनेक महिलाएं व बालिकाएं अपने विशिष्ट कार्यों, उपलब्धियों व सफलताओं से समाज को राह दिखा रही हैं और लोगों की प्रेरणास्रोत बन रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला अपराधों का प्रमुख कारण जागरूकता का अभाव है। महिलाओं के सम्मुख आने वाली चुनौतियों से जूझने के लिए जागरूकता उत्पन्न करने के कार्य व्यापक स्तर पर किए जाने जरूरी हैं। इसके दृष्टिगत वर्ष 2020 में शारदीय नवरात्रि के पर्व पर ‘मिशन शक्ति’ के प्रथम चरण का शुभारम्भ किया गया। इस वर्ष 08 मार्च, 2021 को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर इस अभियान का द्वितीय चरण आरम्भ हुआ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार नारियों की सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन के लिए प्रतिबद्ध व संवेदनशील रही है। वर्ष 2017 में सत्ता में आने के बाद ही राज्य सरकार ने बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए एण्टी रोमियो स्क्वॉयड के गठन की कार्यवाही की। ‘मिशन शक्ति’ के अन्तर्गत 1,535 थानांे और 350 तहसीलों में महिला हेल्पडेस्क स्थापित की गई हैं, जो प्रभावी ढंग से कार्य कर रही हैं। पुलिस बल में महिलाओं की भर्ती के तहत कार्यवाही की गई है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक संख्या में महिलाएं पुलिस बल में शामिल हुई हैं। उन्होंने कहा कि 18 पुलिस परिक्षेत्रीय कार्यालयों में महिला साइबर क्राइम सेल तथा जनपदों में एक-एक महिला पुलिस चौकी-परामर्श केन्द्र की स्थापना की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं के प्रति अपराधों पर शीघ्र कार्रवाई कर नियंत्रित करने के लिए ‘वीमेन पावर लाइन-1090’ को पूरे प्रदेश में क्रियाशील किया गया है। महिलाओं तथा बालिकाओं को राहत प्रदान करने तथा उनकी मदद के लिए ‘महिला हेल्पलाइन-181’ संचालित की जा रही है। ‘वीमेन पावर लाइन-1090’ तथा ‘महिला हेल्पलाइन-181’ को ‘एकीकृत आपात सेवा-112’ से इण्टीग्रेट किया गया है। इस सन्दर्भ में उन्होंने ‘सी0एम0 हेल्पलाइन-1076’ की भी चर्चा करते हुए कहा कि यह हेल्पलाइन लोगों की समस्याओं के समाधान में कारगर भूमिका निभा रही है।

मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट उपलब्धियां और सफलताओं को हासिल करने वाली गोरखपुर की सुश्री श्रीती पाण्डेय (कंस्ट्रक्शन इनोवेटर) से संवाद करते हुए कहा कि उन्होंने कोरोना काल के दौरान भी अपने हौसलों को कायम रखा और आवास निर्माण के क्षेत्र में ईको-फ्रेण्डली कोविड अस्पताल का निर्माण कर उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि अच्छे और सुरक्षित आवासों की आवश्यकता के दृष्टिगत आवास निर्माण के क्षेत्र में व्यापक सम्भावनाएं हैं, जिन पर कार्य किया जा सकता है। मुख्यमंत्री जी ने प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की डॉ0 मोनिका (माइक्रोबायोलॉजी) के कोरोना काल के दौरान किए गए कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने आर0टी0पी0सी0आर0 जांचों के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया।
इनके अलावा, मुख्यमंत्री ने कानपुर की सुश्री प्रेरणा वर्मा (युवा उद्यमी व निर्यातक), आगरा की सुश्री अपर्णा राजावत (सेल्फ डिफेंस), अलीगढ़ की सुश्री हर्षा अरोड़ा (युवा उद्यमी), वाराणसी की डॉ0 नन्दिता शास्त्री (वेद मर्मज्ञ व संस्कृत विद्वान), नोएडा की सुश्री शशि नाडिया (गारमेण्ट्स एक्सपोर्ट), बरेली की सुश्री गीता शर्मा (पूर्व अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी), मेरठ की सुश्री अनीता राणा (चाइल्ड हेल्पलाइन एवं पर्यावरण) तथा मुरादाबाद की सुश्री तैयबा खातून (हस्तशिल्पी) से भी संवाद किया और उनके द्वारा किए गए उत्कृष्ट प्रयासों व कार्यों की सराहना की।
——-


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top
Translate »