केंद्र और प्रदेश सरकार खेत और खलिहानों की रक्षा एवं संरक्षण देने के लिए पूरी ईमानदारी से कार्य कर रही है—मुख्यमंत्री


मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 चौधरी चरण सिंह कीपुण्यतिथि के अवसर पर विधान भवन परिसर में स्थापितउनकी प्रतिमा के सम्मुख चित्र पर माल्यार्पण किया

किसानों के खाते में डी0बी0टी0 के माध्यम से 72 घंटे के अंदरउनकी उपज का दाम उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जा रही है


लखनऊ | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर यहां विधान भवन परिसर में स्थापित उनकी प्रतिमा के सम्मुख चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी।   मुख्यमंत्री ने कहा कि चौधरी चरण सिंह जी किसानों के परम हितैषी थे।  उनका मूल्य और सिद्धांत था कि देश की सत्ता का रास्ता खेत और खलिहान से हो कर जाता है। वर्तमान केंद्र और प्रदेश सरकार उनके इन्हीं विचारों को ध्यान में रखते हुए खेत और खलिहानों की रक्षा एवं संरक्षण देने के लिए पूरी ईमानदारी से कार्य कर रही है। वर्तमान केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा किसान कल्याण हेतु किए जाने वाले सभी कार्यक्रम चौधरी साहब के किसान हितों के उन कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने की परंपरा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में चौधरी चरण सिंह ने प्रदेश के विकास में अभूतपूर्व योगदान दिया था।
   मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में कोरोना काल में भी प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कार्य कर रही है। कृषकों को कोई समस्या न होने पाए, खेती-बाड़ी अनवरत रूप से जारी रहे, इसलिए खेती के कार्य के लिए किसानों को सुरक्षा कवच प्रदान किया गया है। राज्य सरकार इस पर विशेष ध्यान दे रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों के हितों के प्रति समर्पित अपनी सरकार की प्रतिबद्धता को सिद्ध करते हुए डी0ए0पी0 खाद के लिए सब्सिडी को 1200 रुपए कर दिया, जिससे किसानों को खेती करने में आसानी हो सके। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले 7 वर्षों एवं प्रदेश सरकार ने किसानों के हित में अनेक महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। किसानों के लिए वर्तमान केंद्र सरकार ने आजादी के बाद जितने उत्तम निर्णय लिए, उतने आज तक किसी अन्य सरकार ने नहीं लिए। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, किसानों की लागत का समर्थन मूल्य का डेढ़ गुना देने की गारंटी या किसानों को देश के अंदर अपनी उपज को बिना किसी बाधा के कहीं भी बेचने की स्वतंत्रता प्रदान करना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि द्वारा प्रत्येक किसान को 6000 रुपए सालाना प्रदान करना आदि इनमें प्रमुख रूप से शामिल हैं।
     
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का सर्वाधिक लाभ लेने वाला राज्य है। राज्य में अब तक 02 करोड़ 42 लाख से अधिक किसान पी0एम0 किसान निधि से आच्छादित हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना कालखंड में भी किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए गेहूं क्रय केंद्र वर्तमान में संचालित है। प्रदेश में अब तक 38 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं का क्रय किया जा चुका है। किसानों के खाते में डी0बी0टी0 के माध्यम से 72 घंटे के अंदर उनकी उपज का दाम उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां वर्तमान में पूरे विश्व में और भारत के भी कई राज्यों में पूर्ण लॉक डाउन है, लेकिन वर्तमान उत्तर प्रदेश सरकार श्रमिकों को कोरोना से बचाते हुए उद्योगों का संचालन कर रही है।
      इस अवसर पर जल शक्ति एवं बाढ़ नियंत्रण मंत्री डॉ0 महेन्द्र सिंह, विधायी एव न्याय मंत्री श्री बृजेश पाठक, विधान परिषद सदस्य श्री स्वतंत्रदेव सिंह, मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं सूचना श्री नवनीत सहगल सहित शासन-प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top