दिल्ली में लगातार गंभीर हो रही कोरोना की स्थिति, केंद्र से मांगी मदद—अरविंद केजरीवाल


मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के लगभग 24,000 नए मामले सामने आए हैं

नई दिल्ली। दिल्ली में जारी कोरोना महामारी के कोहराम के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि अब स्थिति काफी गंभीर होती जा रही है। आईसीयू बेड्स के साथ ही दिल्ली में अब ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी होने लगी है। उन्होंने कहा कि हमारे पास सीमित संख्या में आईसीयू बेड हैं। ऑक्सीजन और आईसीयू बेड्स बहुत तेजी से घट रहे हैं। सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि बेड्स को बढ़ाया जाए। उम्मीद है कि अगले 2-4 दिन में हम बड़े स्केल पर बेड बढ़ा पाएंगे।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के लगभग 24,000 नए मामले सामने आए हैं। पॉजिटिविटी रेट भी बढ़कर 24% से ज्यादा हो गया है।

केजरीवाल ने कहा कि तेजी से बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए यमुना स्पोर्टस कॉम्पलेक्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में लगभग 1300 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है। राधा स्वामी सत्संग ब्यास में भी 2,500 बेड का इंतजाम कर रहे हैं, उसके बाद 2,500 बेड का और इंतजाम करेंगे। होटलों और बैंकेट हॉल को अस्पतालों से अटैच किया जा रहा है। इस तरह से हम 2,100 ऑक्सीजन बेड बनाने में सफल हुए हैं। उम्मीद है कुछ दिन में लगभग 6,000 बेड एड करने में सक्षम होंगे।

उन्होंने कहा कि कोरोना की पीक कब आएगी यह कोई नहीं जानता। केंद्र सरकार ने नवंबर में 4100 बेड दिए थे, लेकिन इस बार केवल 1800 बेड दिए गए हैं। इस बारे में मैंने डॉ. हर्षवर्धन से COVID रोगियों के लिए 50% बेड आरक्षित करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि आज अफसरों की बैठक में सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी अगर दवाओं और इंजेक्शन की जमाखोरी या कालाबाजारी करता है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाए।

केजरीवाल ने सभी निजी अस्पतालों को भी चेतावनी दी कि बेड्स उपलब्ध होते हुए भी अगर किसी अस्पताल ने किसी मरीज को बेड देने से मना किया, तो उस अस्पताल पर सख्त एक्शन लिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना को काबू करने के लिए हमें मजबूरी में वीकेंड कर्फ्यू लगाना पड़ा। हम अगले कुछ दिनों तक स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। अगर स्थिति और गंभीर होती है तो आपकी जिंदगी बचाने के लिए और इसे नियंत्रित करने के लिए जो भी कदम उठाने पड़ेंगे, हम उठाएंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिन से ऐसी शिकायत आ रही हैं कि टेस्ट रिपोर्ट आने में 3-4 दिन लग रहे हैं। इसका कारण है कि कुछ लैब ने अपनी क्षमता से ज्यादा सैंपल उठाने शुरू कर दिए हैं। ऐसी लैब के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी जो क्षमता से ज्यादा सैंपल उठाते हैं और 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट नहीं देते हैं।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना की लड़ाई के दौरान हमें केंद्र सरकार से हमेशा मदद मिली है। मैं उम्मीद करता हूं कि इस बार भी केंद्र सरकार हमें पूरी मदद देगी। 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top