इंस्टीट्यूट ऑफ फारेंसिक साइसेंस का निर्माण कार्य इस वर्ष के अंत तक पूर्ण करने का प्रयास किया जाय —अपर मुख्य सचिव, गृह


शैक्षणिक सत्र 2023-24 से शिक्षण कार्य प्रारम्भ किये जाने की योजना

अपर मुख्य सचिव गृह ने मौके पर जाकर निर्माण की प्रगति का निरीक्षण किया

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव,गृह एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा
निर्माणाधीन यूनिवर्सिटी के प्रागंण में किया गया वृक्षारोपड़

लखनऊ | उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में निर्माणाधीन इंस्टीटयूट ऑफ फारेंन्सिक साइंसेस लखनऊ में चल रहे निर्माण कार्याे में अब तक हुई भौतिक प्रगति का आज अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी द्वारा मौके पर जाकर औचक निरीक्षण किया गया। उल्लेखनीय है कि इसका शिलान्यास गृह मंत्री भारत सरकार अमित शाह द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में गत वर्ष 2021 के अगस्त माह में किया गया था।

श्री अवस्थी ने इंस्टीटयूट हेतु बनने वाले विभिन्न प्रकार के भवनो के निर्माण कार्य को आगामी वर्ष 2023 के बजाय इस वर्ष के अंत तक पूरा किये जाने के निर्देश निर्माण कार्य में लगे अधिकारियों को दिये है।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि इंस्टीट्यूट हेतु गठित बोर्ड ऑफ गर्वर्निंग बाडी की अगली बैठक इस मास की 14 तारीख को किये जाने के निर्देश दिये गये है ताकि आगामी शैक्षणिक सत्र 2023-24 तक इस इंस्टीट्यूट में अध्ययन कार्य प्रारम्भ कराया जा सके। उन्होंने भवन निर्माण में अब तक उपयोग की धनराशि के सम्बन्ध में भी विस्तार से जानकारी ली और अगली किस्त शीघ्र उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

इस संस्थान मे भवन का निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। इसके तहत एडमिन व एकेडमिक ब्लॉक, ईसेन्सियल कमोडिटी ब्लॉक (ESSENTIAL COMMODITY BLOCK), छात्र-छात्राओं हेतु हास्टल, गेस्ट हाउस, कैण्टीन, विभिन्न प्रकार के आवासीय व आधिकारिक भवन आदि का निर्माण कार्य किया जा रहा है। इन विभिन्न कार्याे में अब तक हुई भौतिक प्रगति का मौके पर जाकर श्री अवस्थी द्वारा जानकारी लेकर हुई वास्तविक प्रगति का जायजा मौके पर लिया गया। उल्लेखनीय है कि विभिन्न कार्यो में जमीन के नीचे का फाउण्डेशन वर्क पूर्ण किया जा चुका है तथा जमीन के उपर का फाउण्डेशन वर्क शीघ्र प्रारम्भ किये जाने के निर्देश दिये गये है।

उल्लेखनीय है कि ए0के0टी0यू0 द्वारा संस्थान को निर्माण कार्य हेतु कुल 200 करोड़ रूपये बिना ब्याज के दिया जा रहा है जिसमें से 50 करोड़ रूपये की धनराशि कार्यदायी संस्था को पहले ही उपलब्ध करायी जा चुकी है। अगली 50 करोड़ रूपये की धनराशि की किस्त एक सप्ताह में निर्माण एजेंसी को उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये गये है।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव, गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, सचिव, गृह श्री बी0डी0 पालसन तथा अपर पुलिस महानिदेशक, इंटेलीजेंस, श्री एस0बी0 शिरडकर द्वारा इस नव निर्माणाधीन यूनिवर्सिटी के प्रागंण में वृक्षा रोपड़ भी किया गया। मौके पर पीडब्लू डी के मुख्य अभियन्ता, अधिशाषी अभियन्ता, कन्सलटेनट व ठेकेदार आदि भी उपस्थित थे।

यह भी उल्लेखनीय है कि शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक संवर्ग के कुल 131 पदों का सृजन शासन द्वारा किया जा चुका है। इन पदों पर प्रतिनियुक्ति के आधार पर तथा सीधी भर्ती के माध्यम से नियुक्तियां की जायेगी। इनमे से जरूरी पदों को यथा शीघ्र भरे जाने की कार्यवाही प्रक्रियाधीन है। 

Scroll To Top
Translate »