LDA में अब बिना ई0एम0बी0 बिल प्रस्तुत किये नहीं होगा ठेकेदारों का भुगतान


लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने डुप्लीकेसी की संभावना को खत्म करने के लिए जारी किये आदेश

अधिकारियों को स्थल निरीक्षण कर सम्बंधित कार्य की फोटो व टिप्पणी भी करनी होगी अंकित

लखनऊ | लखनऊ विकास प्राधिकरण में अब बिना ई0एम0बी0 बिल प्रस्तुत किये ठेकेदारों के देयकों का भुगतान नहीं होगा। प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने भुगतान में डुप्लीकेसी की संभावना को खत्म करने के लिए इस बाबत आदेश जारी किये हैं। साथ ही उपाध्यक्ष ने भुगतान से पूर्व अधिकारियों को स्थल का निरीक्षण करके सम्बंधित कार्य की फोटो व टिप्पणी भी अंकित करने के आदेश दिये हैं।

उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि अक्सर यह देखने में आया है कि देयकों के भुगतान के लिए जो पत्रावलियां प्रस्तुत की जाती हैं। उसमें ई0एम0बी0 बिल तत्समय नहीं प्रस्तुत किया जाता है बल्कि इसे भुगतान आदेश के पश्चात् प्रेषित किया जाता है, जिससे डुप्लीकेसी की संभावना बनी रहती है। इसे ध्यान में रखते हुए यह आदेश जारी किये गए हैं कि अब से भुगतान की पत्रावलियों के साथ ई0एम0बी0 बिल भी प्रेषित करना होगा। साथ ही ई0एम0बी0 बिल से सम्बंधित प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद ही अग्रिम कार्यवाही की जाएगी।

उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि इसके अलावा स्थलीय निरीक्षण सम्बंधी कार्यों के लिए भी अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई है। इसके तहत अब से जो भी चलित देयक भुगतान के लिए प्रस्तुत किये जाते हैं। उनमें सम्बंधित अधिकारियों को स्थल का निरीक्षण करने के साथ ही कार्य की फोटो संलग्न करनी होगी। इस क्रम में अधिकारियों को कार्य की गुणवत्ता व प्रगति के सम्बंध में टिप्पणी भी अंकित करनी होगी। अधिकारी द्वारा कार्य के संतोषजनक ढंग से होने की टिप्पणी दिये जाने के बाद ही भुगतान की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि 25 लाख रूपये तक के कार्यों का अवर अभियंता, 25 से 50 लाख रूपये तक के कार्यों का सहायक अभियंता, 50 लाख से एक करोड़ रूपये तक के कार्यों का अधिशासी अभियंता, एक करोड़ से डेढ़ करोड़ रूपये तक के कार्यों का मुख्य अभियंता व डेढ़ करोड़ से दो करोड़ रूपये तक के कार्यों का सचिव द्वारा स्थलीय निरीक्षण करते हुए सम्बंधित कार्यवाही की जाएगी। इसके अलावा दो करोड़ रूपये से अधिक धनराशि के देयकों के भुगतान की कार्यवाही स्वयं उपाध्यक्ष के निरीक्षण के उपरांत की जाएगी।

अहम बिन्दुओं पर विचार-विमर्श के लिए प्रतिदिन बैठक
लखनऊ विकास प्राधिकरण के महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर विचार-विमर्श करने के लिए अब से उपाध्यक्ष कार्यालय में प्रतिदिन सुबह 10ः00 बजे से 10ः30 बजे तक बैठक होगी। उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने इस सम्बंध में बाकायदा आदेश जारी किये हैं। उन्होंने बताया कि बैठक में सचिव, अपर सचिव, मुख्य विधि सलाहकार, वित्त नियंत्रक, मुख्य अभियंता और मुख्य नगर नियोजक के साथ-साथ समस्त विशेष कार्याधिकारी उपस्थित रहेंगे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top
Translate »