यमुना अथॉरिटी का 100 अरब का बजट पास, जेवर एयरपोर्ट, एक्सप्रेसवे, रैपिड मेट्रो पर और ज्यादा खर्च किया जायेगा


9,957 करोड़ रुपये भूमि अधिग्रहण, इंफ्रास्ट्रक्चरडेवलपमेंट, अरबन डेवलपमेंट, रूरल डेवलपमेंट और जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई-अड्डे पर खर्च करेगा

लखनऊ । यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी की 80वीं बोर्ड बैठक चेयरमैन अनिल सागर की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। इस बोर्ड बैठक में यमुना प्राधिकरण का बजट पास किया गया है। यमुना अथॉरिटी ने अपने इतिहास का सबसे बड़ा बजट पेश किया है। वित्त वर्ष 2024-25 के लिए प्राधिकरण ने 9,992 करोड़ रुपया का बजट पेश किया है। जिसमें प्राधिकरण 9,957 करोड़ रुपये भूमि अधिग्रहण, इंफ्रास्ट्रक्चरडेवलपमेंट, अरबन डेवलपमेंट, रूरल डेवलपमेंट और जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई-अड्डे पर खर्च करेगा। बजट के बारे में यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉक्टर अरुणवीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में विस्तार से जानकारी दी है।


यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉक्टर अरुण वीरसिंह ने बताया कि 1 अप्रैल 2024 से शुरू होने वाले वित्त वर्ष के लिए मंगलवार को बोर्ड बैठक में बजट पेश किया गया। बजट प्रस्तावों को बोर्ड ने मंज़ूरी दे दी है। अगले वित्त वर्ष के लिए 9,992.24 करोड़ रुपये के बजट प्रावधान पारित किए गए हैं। सीईओ ने बताया कि अगले वित्त वर्ष के दौरान विकास प्राधिकरण 9,992.24 करोड़ रुपये की राजस्व प्राप्तियां करेगा। इनमें भूमि आवंटन के जरिए 7,635 करोड़ रुपये की आय होगी। यह पिछले वित्त वर्ष के मुक़ाबले 102 प्रतिशत ज़्यादा रहने का अनुमान है। लीज़ रेंट और दूसरे शुल्कों के माध्यम से 706 करोड़ रुपये की आय होने की संभावना है। इस मद में पिछले वित्त वर्ष के मुक़ाबले 222% ज़्यादा आय होने का अनुमान है। विकास योजनाओं को रफ़्तार देने के लिए प्राधिकरण एडवांस और लोन लेगा। सीईओ ने बताया 1,650 करोड़ रुपये अग्रिम और ऋण लेने का प्रस्ताव पारित किया गया है। इस तरह अगले वित्त वर्ष के दौरान 9,992.2करोड़ रुपये अथॉरिटी अर्जित करेगी।


डॉक्टर अरुणवीर सिंह ने बताया कि बजट में 9,957.21 करोड़ रुपये के व्यय प्रस्ताव पारित किए गए हैं। प्राधिकरण 655 करोड़ रुपये कर्ज़ वापस लौटाएगा। भूखंड आवंटियों की परिसंपत्तियों के सरेंडर और अलॉटमेंट कैंसिलेशन होने के कारण 10.75 करोड़ रुपये वापस लौटाए जाएंगे। यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में नए औद्योगिक और आवासीय सेक्टरों का विकास किया जा रहा है। इसके लिए 1,948.55 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। चालू वित्त वर्ष के सापेक्ष अगले वित्त वर्ष में विकास और निर्माण कार्यों पर 173%अधिक खर्च किया जाएगा।


Scroll To Top
Translate »