वित्‍त मंत्री श्री अरूण जेटली चार दिन की ऑस्‍ट्रेलिया यात्रा पर सिडनी पहुंचे


Arun-Jaitley_PTI
सिडनी |  केंद्रीय वित्‍त मंत्री श्री अरूण जेटली ने कहा कि भारत को विशेष रूप से निर्माण और बुनियादी ढांचा क्षेत्र में अधिक प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की आवश्‍यकता है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य सरकारें भी इसमें रूचि दिखा रही है और अपने-अपने राज्‍यों में विदेशी निवेश के लिए प्रतिस्‍पर्धी माहौल तैयार कर रही हैं। श्री जेटली ने कहा कि इस संबंध में वे निवेश सम्‍मेलन आयोजित कर रही हैं। वित्‍त मंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ने रेलवे और रक्षा सहित विभिन्‍न क्षेत्रों को प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश के लिए खोल दिया है। उन्‍होंने न्‍यू साउथ वेल्‍स के व्‍यापारियों को निवेश और मेक इन इंडिया के लिए आमंत्रित किया। उन्‍होंने कहा कि वे विदेशी संप्रभुत्‍व की निधि को भारत में एनआईआईएफ, पेंशन और बीमा राशियों का हिस्‍सा बनाना चाहते हैं।

वित्‍त मंत्री श्री अरूण जेटली ने आज सिडनी में न्‍यू साउथ वेल्‍स के प्रधानमंत्री श्री माइक बेयर्ड के साथ अपनी बैठक के दौरान यह बात कही। चार दिन की ऑस्‍ट्रेलिया यात्रा पर आज सुबह सिडनी पहुंचने के बाद वित्‍त मंत्री श्री अरूण जेटली की यह पहली आधिकारिक बैठक थी।

वित्‍त मंत्री श्री जेटली ने भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को बढ़ाने के लिए वर्तमान सरकार द्वारा उठाये गये विभिन्‍न कदमों और सुधार उपायों के बारे में भी बताया। भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था 7.5 प्रतिशत से अधिक दर से वृद्धि कर रही है।

इस अवसर पर श्री बेयर्ड ने भारत में निवेश के अवसरों विशेष रूप से बुनियादी ढांचा क्षेत्र में निवेश के बारे में रूचि दिखाई। उन्‍होंने भारत में उपलब्‍ध अवसरों को समझने के लिए ऑस्‍ट्रेलिया में व्‍यापारिक समुदाय को जानकारी देने के महत्‍व को रेखांकित किया। उन्‍होंने वित्‍त मंत्री को बताया कि वे जनवरी 2017 को भारत में आयोजित होने वाले अगले ‘वाइब्रेंट गुजरात’ कार्यक्रम में भारत आना चाहते हैं।


Scroll To Top
Translate »